Bikaner News। राजस्थान के पीएचईडी व ऊर्जा मंत्री डॉ. बी.डी.कल्ला ने रविवार को कहा कि महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय परिसर में ही पाताल तोड़ कुआं का निर्माण भी करवाया जाएगा। इसके लिए पहले भूजल विभाग के अभियंताओं से पानी की उपयोगिता और गहराई की जानकारी लेने का सर्वे करवाया जायेगा ताकि विश्वविद्यालय को हरा-भरा करने और पीने के पानी में यह विश्वविद्यालय आत्मनिर्भर बन सके। 


उन्होंने कहा कि विभाग जल्द ही एक कार्य योजना के तहत बीकानेर में भी नए कुएं बनाने का कार्य करेगी। साथ ही वर्तमान में जो पुराने कुएं है, उन्हें रिवाईज करवाया जायेगा ताकि नहर बंदी के दौरान इन कुआं से पेयजल आपूर्ति निर्बाध रूप से हो सके। मंत्री कल्ला और उच्च शिक्षा मंत्री भंवरसिंह भाटी ने विवि के लिए जल वितरण योजना का शिलान्यास एवं रेन वाटर स्टोरेज टैंक का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय से निकलने वाले छात्र.छात्राएं भी भारतीय प्रशासनिक सेवा और राजस्थान प्रशासनिक सेवा में अपना स्थान बनाए इसके लिए भी विश्वविद्यालय को ऐसे विषय और खोलने चाहिए जो वर्तमान में प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता दिलाने के लिए मील का पत्थर साबित हो सके।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय में वाटर हार्वेस्टिंग के तहत वर्षा जल संचय का कार्य किया है। इसके साथ ही सौर ऊर्जा में भी विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा किया गया कार्य सराहनीय है। अब विश्वविद्यालय को चाहिए कि वे यह भी परीक्षण करें कि पवन चक्की के माध्यम से विद्युत उत्पादन हो सकता है या नहीं। अगर तकनीकी रूप से यह सही हो तो विश्वविद्यालय को चाहिए कि दिन में सौर ऊर्जा और रात को पवन चक्की के माध्यम से विद्युत का उत्पादन करें। पानी और विद्युत के उपयोग हो जाने से यह विश्वविद्यालय जल्दी एक ग्रीन यूनिवर्सिटी के रूप में पूरे देश में अपनी पहचान बना पाएगा।


       इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि बीकानेर के लोगों की लम्बे समय से मांग थी कि बीकानेर में विश्वविद्यालय बने। उन्होंने कहा कि 2003 में जब अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री बने तो यहां के लोगों की मांग पर ध्यान दिया गया। इससे पूर्व दोनों ही मंत्री ने महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय में रेन वाटर हार्वेस्टिंग टैंक का लोकार्पण तथा एक करोड़ 67 लाख रुपए की लागत से बनने वाले पेयजल वितरण योजना का शिलान्यास किया।


इस अवसर पर महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय के कुलपति विनोद कुमार सिंह, कार्यक्रम प्रभारी बिठल बिस्सा ने भी विचार रखे। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय वित्त नियंत्रक संजय धवन ने आभार व्यक्त किया। परीक्षा नियंत्रक डॉ जे.एस. खीचड़, शोध निदेशक प्रो राजाराम चोयल सहित विभिन्न संकायों के संकायाध्यक्ष, जन स्वास्थ्य अभ्यांत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियन्ता विनोद गौड़, अधीक्षण अभियंता दीपक बंसल, प्राचार्य एवं विद्यार्थी उपस्थित थे। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here